Reviews

User reviews

User Review - Flag as inappropriate

भूलना भूल जाओगे
Forget Forgetting
यह विश्व की प्रथम एवं एक मात्र हिन्दी निमोनिक्स की पुस्तक है। लेखक एन एल श्रमण ने अपने पचास वर्षों के अनुभवों से इसकी रचना की है। इस पुस्तक को
सम्पादित करने में दस वर्षों से अधिक समय लगा है। इस पुस्तक की विषय वस्तु चार वर्ष या अधिक आयु के व्यक्तियों द्वारा याद की जा सकती है। यह पुस्तक न केवल इक्यावन से अधिक विषयों को याद करने का मार्गदर्शन करती है अपितु उससे सम्बंधित तकनीकियों की जानकारी भी देती है। यह पुस्तक स्मरण शक्ति से सम्बंधित तमाम मिथकों को तोड़ती है। इस पुस्तक की दृष्टि में स्मरणशक्ति कोई दैवीय वरदान नहीं अपितु इसे थोड़े से प्रयास से कई गुणा बढ़ाया जा सकता है। इस पुस्तक में ऐसी जानकारियाँ दी गयी है जो इस पुस्तक के अतिरिक्त अन्यत्र शायद ही कहीं उपलब्ध हो सकें। एक बार जब आप इस पुस्तक को पढ़ लेंगे तो आप को इस बात का पछ्तावा अवश्य हो सकता है कि यह पुस्तक आपको काफी पहले क्यों पढ़ने को नहीं मिली। इस पुस्तक को पढ़ने से आप अथाह आत्मविश्वास प्राप्त करेंगे, परीक्षा का नाम सुनकर आपका चेहरा खिल उठेगा, आपकी कमज़ोरियाँ खूबियों में बदल जायेंगी, ख्याति बढ़ेगी व आपकी जिन्दगी एकदम बदल जायेगी, आपकी अवस्था चाहे कुछ भी हो। यह पुस्तक न केवल छात्रों के लिये अपितु हर आयु वर्ग के लिये अत्यंत उपयोगी है।
इस पुस्तक की विषय वस्तु में 51 से अधिक विषयों जैसे नागरिक शास्त्र, इतिहास, भूगोल, गणित, बीज गणित, रेखा गणित, ठोस ज्यामिति, ज्यामिति, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, हिन्दी अँग्रेज़ी भाषा व व्याकरण, खगोल विज्ञान, कृषि, वनस्पति शास्त्र, सामान्य ज्ञान, कम्प्यूटर विज्ञान, स्मृति शास्त्र, वेग गणित, इलेक्ट्रॉनिक्स्, मीट्रिक प्रणाली वाणिज्य, अर्थशास्त्र व देश विदेश की जानकारी आदि के साथ-2 अन्य बहुमूल्य जानकारियाँ दी गयी हैं। इसकी विषय वस्तु को चार वर्ष
 

User ratings

5 stars
1
4 stars
2
3 stars
2
2 stars
0
1 star
0

All reviews - 5
2 stars - 0
1 star - 0

All reviews - 5
Editorial reviews - 0

All reviews - 5