Hindī ke prayogadharmī upanyāsa

Front Cover
Star Publications, 2008 - Hindi fiction - 253 pages
Study on Hindi experimental novels; covers the period 20th century.
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
1
Section 2
53
Section 3
71
Section 4
117
Section 5
135
Section 6
152
Section 7
175
Section 8
192
Section 9
209
Section 10
222
Section 11
236
Section 12
255

Other editions - View all

Common terms and phrases

अता अधिक अनेक अपना अपनी अपने अब इन इफ इस इसलिए इसी उन उनके उन्हें उपन्यास उस उसके उसे एक एव एवं कते हैं करते का काल किसी की के कारण के बाद के राथ के लिए केवल को कोई गंगोत्री गई गया है गो घर छोरों जब जा जाता है जाती जाते हैं जाने जिया है जिले जिस जी जीवन तक तरह तो था थी दिया देता है देते देश दो नहीं नहीं है नाम ने पत पर परंतु पाकिस्तान प्राप्त फप बन बना बने बहुत बाए बात बार भारत भी मुसलमान मुसलमानों में में भी मैं यता है यती यदि यने यम यया यर यल यह यहाँ यहीं या रम रहे रा रेणु रो लगता लिया ले लेकिन वने वर्णन वह वे शाथ हम हिन्दी ही हुई हुए है और है कि है की है तो हैं हो जाता है होता है होती होते होने

Bibliographic information